Kunwar Singh

Kunwar Singh was one of the leading figures of the Indian Movement of 1857-59. A scion of Rajpur nobility he was born in Jagdishpur in the Shahabad (Now Bhojpur) District of Bihar about 1777 and was destined to die a hero in the Great Rising of 1857.When India rose against British authority in 1857, Babu Kunwar Singh was already past his prime being nearly eighty years old.

Despite his age and failing health, when the call to fight came, the old lion plunged into the thick of it and for nearly a year battled against the British forces with grim determination and undaunted courage.
 
In Bihar, Kunwar Singh was the chief organizer of the fight against British. He assumed command of the soldiers who had revolted at Danapur on 5th July. Two days later he occupied Arrah, the district headquarter. Major Vincent Eyre relieved the town on 3rd August, defeated Kunwar Singh's force and destroyed Jagdishpur. Kunwar Singh left his ancestral village and reached Lucknow in December 1857. In March 1858 he occupied Azamgarh. However, he had to leave the place soon. Pursued by Brigadier Douglas, he retreated towards his home in Bihar. On 23 April, Kunwar Singh had a victory near Jagdishpur over the force led by Captain Le Grand, but the following day he died in his village. The mantle of the old chief now fell on his brother Amar Singh who, despite heavy odds, continued the struggle and for a considerable time ran a parallel government in the district of Shahabad. In October 1859 Amar Singh joined the rebel leaders in the Nepal Terai.

The part which Kunwar Singh played in the First War of Independence marks a glorious chapter in the chequered history of his country. After harrying the British at the head of a devoted band of followers for nearly a year Kunwar Singh was forced to retreat to his ancient seat at Jagdishpur. It is believed that while crossing the Ganga on his way to Jagdishpur he was wounded in the arm by the pursuing forces and the old warrior severed the injured limb and flung it into the Ganga as his last offering. Soon after he fought his last battle near Jagdishpur on the 23rd April, 1858 in which the British forces were completely routed. Kunwar Singh passed away the next day.
 
To honor his memory and his contribution to India’s freedom movement, the Republic of India issued a commemorative stamp on 23rd April, 1966.

=========================================================================================


बाबू कुंवर सिंह


भारतीय स्वतंत्रता के प्रथम संग्राम (१८५७) के रणबांकुरे कुंवर सिंहबाबू कुंवर सिंह सन १८५७ के भारतीय स्वतंत्रता के प्रथम संग्राम के सिपाही थे । इनको 80 वर्ष की उम्र में भी लड़ने तथा विजय हासिल करने के लिए जाना जाता है ।

कुंवर सिंह का जन्म १७७७ में बिहार के भोजपुर जिले के जगदीशपुर गांव में हुआ था। इनके पिता बाबू साहबजादा सिंह प्रसिद्ध शासक भोज के वंशजों में से थे। उनके छोटे भाई अमर सिंह, दयालु सिंह और राजपति सिंह एवं इसी खानदान के बाबू उदवंत सिंह, उमराव सिंह तथा गजराज सिंह नामी जागीरदार रहे तथा अपनी आजादी कायम रखने के खातिर सदा लड़ते

१८५७ के संग्राम में बाबू कुंवर सिंह
१८५७ में अंग्रेजों को भारत से भगाने के लिए हिंदू और मुसलमानों ने मिलकर कदम बढ़ाया। मंगल पाण्डे की बहादुरी ने सारे देश में विप्लव मचा दिया। बिहार की दानापुर रेजिमेंट, बंगाल के बैरकपुर और रामगढ़ के सिपाहियों ने बगावत कर दी। मेरठ, कानपुर, लखनऊ, इलाहाबाद, झांसी और दिल्ली में भी आग भड़क उठी। ऐसे हालात में बाबू कुंवर सिंह ने भारतीय सैनिकों का नेतृत्व किया।27 अप्रैल 1857 को दानापुर के सिपाहियों, भोजपुरी जवानों और अन्य साथियों के साथ आरा नगर पर बाबू वीर कुंवर सिंह ने कब्जा जमा लिया। अंग्रेजों की लाख कोशिशों के बाद भी भोजपुर लंबे समय तक स्वतंत्र रहा। जब अंग्रेजी फौज ने आरा पर हमला करने की कोशिश की तो बीबीगंज और बिहिया के जंगलों में घमासान लड़ाई हुई। बहादुर स्वतंत्रता सेनानी जगदीशपुर की ओर बढ़ गए। आरा पर फिर से कब्जा जमाने के बाद अंग्रेजों ने जगदीशपुर पर आक्रमण कर दिया। बाबू कुंवर सिंह और अमर सिंह को जन्म भूमि छोड़नी पड़ी। अमर सिंह अंग्रेजों से छापामार लड़ाई लड़ते रहे और बाबू कुंवर सिंह रामगढ़ के बहादुर सिपाहियों के साथ बांदा, रीवां, आजमगढ़, बनारस, बलिया, गाजीपुर एवं गोरखपुर में विप्लव के नगाड़े बजाते रहे। ब्रिटिश इतिहासकार होम्स ने उनके बारे में लिखा है, 'उस बूढ़े राजपूत ने ब्रिटिश सत्ता के विरुद्ध अद्भुत वीरता और आन-बान के साथ लड़ाई लड़ी। यह गनीमत थी कि युद्ध के समय कुंवर सिंह की उम्र अस्सी के करीब थी। अगर वह जवान होते तो शायद अंग्रेजों को 1857 में ही भारत छोड़ना पड़ता।'